Featured

मई माह के कृषि कार्य

मई

फसलोत्पादन

गेहूँ 

  • मड़ाई के समय ध्यान रखें कि थ्रेसर ठीक से काम कर रहा हो और गेहूँ का लाक अच्छी तरह सूखा हो।
  • भण्डारण के लिए गेहूँ को कड़ी धूप में इतना सुखाना चाहिए कि उसमें नमी की मात्रा 8-10 प्रतिशत से अधिक न रहे।
  • भण्डारण से पूर्व कुठले या भण्डारगृह को कीटनाशी से विसंक्रमित कर लें।
  • यदि अनाज की बोरियों में भरकर रखना हो तो नीचे पर्याप्त मात्रा में भूसे व नीम की सूखी पत्ती की तह बिछा दें तथा बोरे को दीवार से 50 सेंमी दूर रखें।

सूरजमुखी 

  • सूरजमुखी की फसल में आवश्यकतानुसार सिंचाई व निराई-गुड़ाई करें। इसके साथ ही पौधों पर 15 20 सेंमी मिट्टी भी चढ़ा दें।
  • सूरजमुखी में हरे फुदके, बालदार सूंड़ी या तम्बाकू की सूंड़ी के नियंत्रण के लिए प्रति हेक्टेयर फास्फेमिडान 250 मिलीलीटर 600 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें।

मूँग/उर्द/लोबिया

  • गर्मी में बोई गई मूँग, उर्द और लोबिया की फसल में 12-15 दिन के अन्तराल पर सिंचाई करते रहें।
  • इन फसलों में पत्ती खाने वाले कीट की रोकथाम करें।

गन्ना

  • बसन्त ऋतु के गन्ने में 20 दिन के अन्तराल पर सिंचाई करते रहें और ओट आने पर गुड़ाई करें।
  • अगोला बेधक की रोकथाम के लिए प्रति हेक्टेयर 30 किग्रा कार्बोफ्यूरान चूर्ण डालकर फसल में सिंचाई कर दें अत: मोनोक्रोटोफास 40 ई.सी. की 5 लीटर दवा 600 लीटर पानी में घोल बनाकर छिड़काव करें।

हरी खाद की फसलें

  • हरी खाद के लिए ढैंचा या सनई की बोआई भूमि की उर्वरता बढ़ाने के लिए बहुत ही उपयोगी है।
  • हरी खाद की फसलें 45-50 दिन में पलटने योग्य हो जाती हैं। अतः रोपाई के समय को ध्यान में रखते हुए बोआई करें।

मृदा परीक्षण एवं भूमि का समतलीकरण

  • भूमि में पोषक तत्वों की कमी जानने के लिए मृदा परीक्षण करवा लें।
  • भूमि का समतलीकरण कर लें, जिससे सिंचाई के समय पानी पूरे खेत में एक समान फैले।

गर्मी की जुताई

  • रबी की फसल की कटाई के बाद मिट्टी पलटने वाले हल से गर्मी की जुताई करना लाभदायक होगा।
  • गर्मी की जुताई से खरपतवार की संख्या में कमी होती है, साथ ही हानिकारक कीड़े भी नष्ट हो जाते हैं और भूमि की पानी सोखने व रोकने की क्षमता भी बढ़ जाती है।

धान

  • धान की देर से पकने वाली प्रजातियों की नर्सरी माह के अन्तिम सप्ताह से डाली जा सकती है।

सब्जियों की खेती

  • भिण्डी/बैंगन को फली छेदक सूंड़ी से बचायें।
  • अदरक व हल्दी में खेत की तैयारी के समय प्रति हेक्टेयर 200-250 कुन्तल गोबर की खाद या 75 कुन्तल नादेप कम्पोस्ट प्रयोग करना चाहिए।

फलों की खेती

  • यदि नींबू में फटने की समस्या हो तो पोटैशियम सल्फेट के 4 प्रतिशत घोल का छिड़काव करें। गर्मियों में उचित समय पर सिंचाई करें।
  • लीची को फटने से बचाने हेतु भूमि में सिंचाई कर पर्याप्त नमी बनाये रखें। फल विगलन रोग के रोकथाम के लिए फलों के पकने से 20-25 दिन पूर्व काबेन्डाजिम 50% डब्लू.पी. 0 प्रतिशत (दो ग्राम दवा/लीटर पानी) का छिड़काव करें।

पुष्प व सगन्ध पौधे

  • गुलाब में आवश्यकतानुसार सिंचाई एवं गुड़ाई करें।
  • मेंथा में 40-50 किग्रा नाइट्रोजन की तीसरी व अन्तिम टाप ड्रेसिंग करें।

पशुपालन/दुग्ध विकास

  • पशुओं को गर्मी तथा लू से बचायें।
  • पशुओं को हरा चारा पर्याप्त मात्रा में दें।
  • पशुओं के लिए स्वच्छ पानी की पर्याप्त व्यवस्था करें तथा पशुओं को सुबह एवं सायं नहलावें।

मुर्गीपालन

  • मुर्गीखाने के आस-पास छायादार वृक्ष होना चाहिए।
  • ऐस्बेस्टास/टिन के छतों पर पेन्ट लगायें, जिससे मुर्गीखाने में ठंडक रहे।
  • मुर्गीखाने में लगे पर्दा पर पानी के छीटें मारें जिससे ठंडक बनी रहे।
  • मुर्गियों के चारे में प्रोटीन की मात्रा 18 प्रतिशत से बढ़ाकर 20 प्रतिशत कर दें। इसके लिए मूँगफली की खली तथा मछली के चूरे की मात्रा बढ़ा दें।

 

Show More

Leave a Reply

Related Articles

Close
Close