समाचार

वाणिज्य मंत्रालय कृषि निर्यात के लिए जल्द ही नई नीतियां लाने के लिए प्रतिबद्ध: सुरेश प्रभु

Union Commerce Minister Suresh Prabhu on Agro Exports

अपनी प्राथमिकता को रेखांकित करते हुए, नए वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभु ने आज कहा कि मंत्रालय कृषि निर्यात को बढ़ावा देने पर काम करेगा और किसानों के लिए वैश्विक बाजार की उपलब्धता सुनिश्चित करेगा। उन्होंने कहा कि किसानों को वैश्विक बाजारों तक पहुंचने और बेहतर कीमत पाने का पूरा अधिकार है और “इसके लिए हम जल्द ही एक अच्छी नीति का ढांचा तैयार करेंगे”।

प्रभु, हाल ही में वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री के रूप में कार्यभार संभाले हैं , उन्होंने कहा कि उनका मंत्रालय कृषि के लिए वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला विकसित करने पर काम करेगा।

आपको बतातें चलें की एपेडा के आंकड़ों के मुताबिक, 2016-17 में, कृषि उत्पाद, जैसे कि अनाज, संसाधित फल और सब्जियां, संसाधित खाद्य पदार्थ और पशु उत्पादों का निर्यात लगभग 16.27 अरब डॉलर था। प्रभु ने कहा कि मंत्रालय इस क्षेत्र के लिए वैश्विक आपूर्ति श्रृंखलाओं के विकास पर काम करेगा। “हमें वैश्विक आपूर्ति श्रृंखलाओं को विकसित करना है और हम वास्तव में उस पर काम करने जा रहे हैं, हम यह सुनिश्चित कर चुके है की उचित लक्ष्य प्राप्त करेंगे…..यदि यहां उद्योग के लिए क्लस्टर हैं, तो हमें विभिन्न प्रकार के कृषि के लिए समूहों के बारे में क्यों नहीं सोचना चाहिए, “उन्होंने कहा।

इसके अलावा प्रभु ने बताया कि जल्द ही वह मनीला – फिलीपीन्स, सियोल –  दक्षिण कोरिया के व्यापार मंत्रियों के साथ बैठक करेंगे। विश्व व्यापार संगठन (WTO) के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि सारे देशों के मंत्री का सम्मेलन दिसंबर में अर्जेंटीना में है। “हमारा एजेंडा बहुत आक्रामक होने जा रहा है। यह एक विकास का दौर है … हम यह सुनिश्चित करना चाहेंगे कि हमारे किसान भाइयों को उनके विकास का हिस्सा मिले”.

कृषि क्षेत्र में चुनौतियों की बात करते हुए उन्होंने कहा कि भूमि और पानी सीमित हैं, लेकिन जनसंख्या बढ़ रही है और “हमारे पास सबका पेट भरने के लिए पर्याप्त कृषि उपज पैदा करने की चुनौती है…एक और नई चुनौती जलवायु परिवर्तन है। इसका कृषि पर बहुत बड़ा नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा … और अधिक से अधिक लोगों को खिलाने के लिए पर्याप्त पैदावार के लिए कृषि कैसे की जाए इस पर महत्वपूर्ण ध्यान देना होगा,” उन्होंने कहा, बदलते भोजन की आदतें भी एक बड़ी चुनौती होंगी और “हमारे पास समय कम प्रौद्योगिकि तकनीको को प्रयोग में लाना होगा सदैव आगे का सोचना होगा”.

मोदी सरकार मंत्रिमंडल में बड़ा फेरबदल हुआ है कुछ नए चेहरे भी आये और कुछ का संकाय बदल है। अब देखना ये है नई वाणिज्य टीम किस तरह के बदलाव करके कृषि प्रधान भारत देश के उत्पादों को वैश्विक बाजारों में उपस्थिति दर्ज करने में सहायता करती है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Close
Close