उत्तर प्रदेश क़र्ज़ माफ़ी योजना २०१७

उत्तर प्रदेश के किसान अपने फसली ऋण के माफ़ी का स्टेटस यहाँ से चेक करें

योगी आदित्य नाथ की अध्यछ्ता वाली उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा शपथ ग्रहण करने के बाद अपनी पहली ही कैबिनेट बैठक मे अपने संकल्प पत्र में किये गये वायदे के मुताबिक किसानों का कृषि ऋण रूपये एक लाख तक माफ करने का निर्णय लिया गया। एन.आई.सी उत्तर प्रदेश द्वारा विकसित आनलाइन पोर्टल के माध्यम से प्रदेश के सभी सीमान्त और लघु किसानों द्वारा 31-03-2016 तक लिये गये कृषि ऋण का विवरण बैंकों ने एन० आई० सी० (National Informatics Centre/ NIC /निक ) लखनऊ को भेज दिया। इसके बाद निक ने सारे डाटा को सम्बंधित तहसीलों और जिलों पर राजस्व अधिकारीयों के टीम को गहन सत्यापन करने के लिये भेजा।जिससे कि कोई भी उचित किसान इस योजना से शेष न रह जाय , तथा कोई गलत किसान इसका लाभ न लेने पाये। योजना को पूर्ण पारदर्शिता के साथ लागू करना सरकार का उद्देश्य है। इसी कड़ी में सरकार ने अब सभी किसानों का जो फ़सल ऋण माफ़ी योजना के लाभार्थी हैं, उनका डेटाबेस ऑनलाइन कर दिया है—- अपना रिकॉर्ड देखने के लिये निम्न दस्तावेजों के साथ नीचे के लिंक पर क्लिक करें, और फिर नए टैब में खुलने वाले पेज पर सम्बंधित सूचनाओं को भरने के बाद अपने ऋण माफ़ी की स्तिथि…

किसान फ़सल ऋण माफ़ी योजना, उत्तर प्रदेश

उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मुख्यमंत्री चुने जाने के बाद आज अपनी पहली कैबिनेट के बैठक में उत्तर प्रदेश के किसानों की आर्थिक हालात सुधारने और कृषि आधारित अर्थव्यस्था को पुनः पटरी पर लाने के लिए लघु और सीमांत किसानों के 31 मार्च, 2016 के बाद बैंकों से लिये हुए फसली ऋण को माफ कर देने का फैसला लिया। इस फैसले के अनुशार प्रदेश सरकार इस योजना से लाभान्वित होने वाले किसान लोगों को 17 अगस्त, 2017 से “कर्ज़ राहत सर्टिफिकेट” प्रदान करना शुरू कर देगी। इस कर्ज़ माफी से जुड़ी कुछ प्रमुख बातें। 31 मार्च, 2016 तक जो भी फसली ऋण किसानों द्वारा बैंकों से लिया गया है उसका 31 मार्च, 2017 को अचुकता अवशेष माफ करने का निर्णय। अचुकता अवशेष का मतलब ये की 31 मार्च, 2016 के पहले का जो भी ऋण है उसका 31 मार्च, 2016 से लेकर 31 मार्च, 2017 तक जितना भी अवशेष अभी किसानों पर बकाया है वो अब माफ हो जाएगा। इस फसली ऋण माफी की अधिकतम सीमा प्रति व्यक्ति एक लाख (₹100,000) होगी। मतलब ये कि अगर एक लाख से अधिक का लोन है तो उसमें से बस एक लाख ही माफ होगा।   योजना की लागत लगभग 36 हज़ार…
Close
Close