कृषि प्रबंधन

कृषि प्रबंधन

जनवरी माह के कृषि कार्य

Updated on April 11th, 2018 at 05:19 pmजनवरी फसलोत्पादन गेहूँ  गेहूँ में दूसरी सिंचाई बोआई के 40-45 दिन बाद कल्ले निकलते समय और तीसरी सिंचाई बोआई के 60-65 दिन बाद गांठ बनने की अवस्था पर करें। गेहूँ की
बीज प्रबंधन

बीज सम्बंधित सूचनाओं के ऊपर एक संक्षिप्त प्रश्नोत्तेरी

  1- प्रश्न- उत्तम कोटि का बीज क्या है। उत्तर- अनुवॉंशिक रूप से शतप्रतिशत शुद्ध बीज को उत्तम बीज कहते है। 2- प्रश्न- बुवाई के लिए कौन से बीज का प्रयोग करें। उत्तर- प्रमाणित बीज बुवाई के लिए उपयुक
मिट्टी और उर्वरक

मृदा संबाधित जानकारियों पर आधारित प्रश्नोत्तेरी – जाने आपने मिट्टी को और भी बेहतर

  1- प्रश्न- विगत कई वर्षो से धान-गेहूँ की खेती कर रहा हूँ। अनुभव में आ रहा है कि गेहूँ की उपज कम होती जा रही है। उत्तर- धान गेहूँ का फसल चक्र अधिक पोषक तत्व की मॉंग करता है। जिससे भूमि कमजोर हो
मिट्टी और उर्वरक

तमाम प्रकार के उर्वरक और उनके उपयोग पर आधारित एक प्रश्नोत्तेरी

Updated on November 6th, 2017 at 09:16 am  1- प्रश्न- जैव उर्वरक क्या है ? उत्तर- कल्चर ही जैव उर्वरक है। यह जीवित सूक्ष्म जीवाणुओं से बना हुआ एक प्रकार का टीका है जैसे राइजोबियम, पी0एस0बी0 तथा ए
मिट्टी और उर्वरक

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा संचालित मृदा जाँच केंद्र 

  क्रमांक प्रयोगशाला 1 क्षेत्रीय भूमिपरीक्षण प्रयोगशाला, मेरठ 2 क्षेत्रीय भूमिपरीक्षण प्रयोगशाला लख्ननऊ 3 क्षेत्रीय भूमिपरीक्षण प्रयोगशाला, आजमगढ 4 क्षेत्रीय भूमिपरीक्षण प्रयोगशाला, सहारनपुर 5 जन
मिट्टी और उर्वरक

कृषि रक्षा रसायनों सूची

कृषि रक्षा रसायनों सूची वर्ग रसायन कीटनाशक तरल प्रेटिलाक्लोर 50 प्रतिशत ई.सी. डाइमिथोएट 30 ई.सी. फास्फामिडान 40 प्रतिशत एस.एल. डाइक्लोरोवास 76 ई.सी. मोनोक्रोटोफास 36 एस.एल. मैलाथियान 50 ई.सी. क्यूनालफ
मिट्टी और उर्वरक

नकली एवं मिलावटी उर्वरकों की पहचान कैसे करें

नकली एवं मिलावटी उर्वरकों की पहचान खेती में प्रयोग में लाए जाने वाले कृषि निवेशों में सबसे मंहगी सामग्री रासायनिक उर्वरक है। उर्वरकों के शीर्ष उपयोग की अवधि हेतु खरीफ एवं रबी के पूर्व उर्वरक विर्निमात
कृषि प्रबंधन

उत्तर प्रदेश के प्रमुख कृषि शिक्षा संस्थान

Updated on October 30th, 2017 at 10:18 am Sardar Vallabh Bhai Patel University of Agriculture and Technology, Meerut, Uttar Pradesh  Affiliated with ICAR      http://www.svbpmeerut.ac.in/ Chandra Bhan
कृषि प्रबंधन

खेत की तैयारी में इंधन की बचत करने के उपाय

Updated on October 29th, 2017 at 01:42 pmखेती में खनिज तेल की बहुत ज्यादा खपत है. तेल के दाम दिन प्रतिदिन बढते ही जा रहे है अतः यह आवश्यक हो गया है की इनका उपयोग किफ़ायत के साथ किया जाए. किसान भाइयो को
मिट्टी और उर्वरक

अम्लीय मिट्टी का प्रबंधन

Updated on October 27th, 2017 at 03:48 pmपरिचय यदि भूमिका पी एच 5.5 से नीचे हो अधिक पैदावार हेतु प्रबन्धन आवश्यकता होती है| हिमाचल प्रदेश  में लगभग  1 लाख हैक्टेयर कृषि योग्य भूमि  की पी एच 5.5 से नीच
Close
Close