आलू

वैज्ञानिक विधि से आलू की खेती

भारत में वैज्ञानिक ढंग से आलू  का उत्पादन आलू भारत की एक महत्वपूर्ण फ़सल है। उत्पादन की दृष्टि से इसका स्थान हमारे देश में चावल एवं गेहूं के बाद तीसरा है। हाल के कुछ वर्षो में दुनियाँ में बढ़ती जनसंख्या एवं खाद्यान की कमी को देखते हुए आलू को खाद्य सुरक्षा फ़सल के एक महत्वपूर्ण विकल्प के रूप में देखा जा रहा है। हिमाचल प्रदेश में आलू एक नकदी फ़सल के रूप में उगाई जाती है। आलू उत्पादन में इसके बीज का खास महत्व है। कहा जाता है कि यदि आलू का बीज उत्तम गुणवत्तायुक्त हो तो फ़सल उत्पादन की आधी समस्या दूर हो जाती है। भारत के कुल बीज आलू उत्पादन का 94% हिस्सा मैदानी क्षेत्रों एवं 6% पहाड़ी क्षेत्रों से आता है। हिमाचल की जलवायु स्वस्थ बीज आलू उत्पादन के लिए उपयुक्त है। आज भी हिमाचल प्रदेश, देश के कई पर्वतीय राज्यों जैसे जम्मू कश्मीर,उतराखण्ड तथा उत्तरपूर्वी राज्यों को बीज आलू की आपूर्ति करता है। लेकिन प्रदेश में आलू की उपज देश के अन्य राज्यो के मुक़ाबले काफी कम है। किसानों को स्वस्थ बीज आलू उपलब्ध न होना एवं कीटनाशकों का प्रयोग उचित मात्रा व समय पर न करना कम उपज के मुख्य कारण है। अतः किसानो को…
Close
Close