गन्ना

गन्ने की उन्नत किस्मों की खेती और बेहतर पैदावार के तरीके

हमारे देश में गन्ना प्रमुख रूप से नकदी फसल के रूप में उगाया जाता है, जिसकी खेती प्रति वर्ष लगभग 30 लाख हेक्टर भूमि में की जाती है, इस देश में औसत उपज 65.4 टन प्रति हेक्टर है, जो की काफी कम है, यहाँ पर मुख्य रूप से गन्ना द्वारा ही चीनी व गुड बनाया जाता है। —– गन्ना उत्पादन में समस्याएं —– गन्ना उत्पादन की निम्न मुख्य समस्याएं है। 1. क्षेत्र अनुसार अनुशंसित किस्मो का उपयोग न करना व पुरानी जातियों पर निर्भर रहना। 2. रोगरोधी और क्षेत्र अनुसार उपयुक्त किस्मों के उन्नत बीजों की अनुपलब्धता एवं बीजो उत्पादन कार्यक्रम का अभाव। 3.  बीज उपचार न करने से बीज जनित रोगों व कीड़ों का प्रकोप अधिक एवं एकीकृत पौध संरक्षण उपायों को न अपनाना। 4. कतार से कतार कम दूरी व अंतरवर्तीय फसलें न लेने से प्रति हेक्टेयर उपज और आय में कमी। 5. पोषक तत्वों का संतुलित उपयोग नहीं किया जाना। 6. उचित जल निकास एवं सिंचाई प्रबंधन का अभाव। 7. गन्ना फसल के लिए उपयोगी कृषि यंत्रों का अभाव जिसके कारण श्रम लागत अधिक होना। —— जलवायु और भूमि —— गन्ने की बुवाई के समय 30-35 डिग्री सेंटीग्रेट तापमान होना चाहिए, साथ ही वातावरण शुष्क होने पर…
Close
Close